विश्व में भारतीय शिक्षा और अनुसंधान क्षेत्र की प्रतिष्ठा बढ़ी - लंदन ने क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2022 जारी की - तीन भारतीय यूनिवर्सिटीयों ने रैंक बनाई | #NayaSaberaNetwork

विश्व में भारतीय शिक्षा और अनुसंधान क्षेत्र की प्रतिष्ठा बढ़ी - लंदन ने क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2022 जारी की - तीन भारतीय यूनिवर्सिटीयों ने रैंक बनाई | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
भारतीय शिक्षा प्रणाली विश्व प्रसिद्ध - शिक्षा में वैश्विक उत्कृष्टता एकमात्र लक्ष्य बनाकर बौद्धिक कौशल विकास ध्येय बनाना जरूरी - एड किशन भावनानी
गोंदिया - भारत एक विश्व प्रसिद्ध सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश और सबसे ख़ूबसूरत धर्मनिरपेक्ष देश जैसी विशेषताओं सहित अनेक ऐसी अनमोल खूबियां है, जिस की महक विश्व में के कोने कोने में महसूस होती है। जो भारत के पक्ष में एक ख़ूबसूरत और सकारात्मक पहलू है।...बात अगर हम भारतीय शिक्षा प्रणाली की करें तो विश्व के अनेक देशों से भारत में शिक्षा ग्रहण करने विद्यार्थी आते हैं और अभी केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने भी कहा है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति - 2020 और इंस्टीट्यूट ऑफ एमिनेंस जैसी पहल हमारे कॉलेजों औरसंस्थानों को वैश्विक स्तर पर रैंकिंग दिलाने में सहायक साबित हुए हैं। उन्होंने कहा कि क्यूएस एवं टाइम्स ग्रुप द्वारा घोषित विश्वविद्यालय रैंकिंग को देखकर इस तथ्य को महसूस किया जा सकता है। भारत में शिक्षा ग्रहण कर हजारों लाखों लोग विदेशों में बड़ी-बड़ी कंपनियों ने उच्च पदों पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं। आज विश्व में भारत में शिक्षक व्यक्ति की प्रतिष्ठा अपेक्षाकृत अग्रणीय है। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका, ब्रिटेन जैसे देशों में स्वास्थ्य व टेक्नोलॉजी क्षेत्र में अनेक भारतीय शिक्षित व्यक्ति सेवाएं दे रहे हैं। भारत मेंभी वर्तमान समय में स्वास्थ्य, रक्षा, तकनीकी, अंतरिक्ष, क्षेत्रों सहित अनेक क्षेत्रों ने भारतीय शिक्षा के बल पर ही बहुत शालीनता से विकास किया है। हाल ही में भारत में उत्पादित दो वैक्सीन इसका नतीजा है। 135 करोड़ जनसंख्या वाले देश में कोरोना की दूसरी लहर पर नियंत्रण की ओर कदम बढ़ गए हैं, यह भारतीय उच्च मानकों की शिक्षा का ही परिणाम है कि स्वास्थ्य, गृह व अन्य विभागों के सहयोग से हम यह उपलब्धि पाने कीओर अग्रसर हैं।...बात अगर हम भारतीय शिक्षा के वैश्विक मूल्यांकन की करें तो दिनांक 9 जून 2022 को केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की प्रेस विज्ञप्ति और केंद्रीय शिक्षा मंत्री के ट्विटर हैंडल के अनुसार, लंदन स्थित क्वाक्वेरेली साइमंड्स (क्यूएस) ने बुधवार को 2022 के लिए क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग जारी की, जिसमें विश्व सूची के शीर्ष 200 विश्वविद्यालयों में तीन भारतीय संस्थान आईआईएससी बेंगलुरु, आईआईटी बॉम्बे औरआईआईटी दिल्ली भी शामिल हैं।भारतीय विज्ञान संस्थान (IISc), बेंगलुरु को साइटेशन पर फैकल्टी (CPF) मीट्रिक यानी शोध पेपर प्रति संकाय सदस्य के लिए 100 में से 100 अंकों के स्कोर के साथ दुनिया के शीर्ष अनुसंधान विश्वविद्यालय अर्थात टॉप रिसर्च यूनिवर्सिटी इन द वर्ल्ड के रूप में सूचीबद्ध किया गया है जो काबिले तारीफ है और हर भारतीय इस उपलब्धि से गौरवान्वित हुआ हैप्रधानमंत्री और केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने भी यह गौरवपूर्ण उपलब्धि पर बधाई दी है। यह भारत के लिए अच्छी खबर है। इसके साथ, भारतीय विज्ञान संस्थान यानी इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एक संपूर्ण 100 स्कोर करने वाला पहला भारतीय विश्वविद्यालय बन गया है, जो भारतीय उच्च शिक्षा के मानकों का प्रतीक है। रैंकिंग के 18 वें एडिशन के अनुसार क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग - 2022 में एमाईटी को पहला स्थान, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी को दूसरी पोजिशन तो वहीं स्टेनफोर्ड विश्वविद्यालय को थर्ड पोजिशन हासिल हुआ है। उल्लेखनीय है कि आईआईटी दिल्ली समेत देश की तीन यूनिवर्सिटी क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग -2022 के टॉप- 200 में जगह बनाई हैं। आईआईटी बॉम्बे को 177 वीं रैंक, आईआईटी दिल्ली को 185 वीं रैंक और आईआएससी बंगलुरु को 186 वीं रैंक मिली है। शिक्षा मंत्रालय ने कहा कि तीन भारतीय यूनवर्सिटी ने क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग्स 2022 में जगह बनाई है इस गौरवपूर्ण उपलब्धि के अवसर पर क्विटल हैंडल से माननीय प्रधानमंत्री ने इस उपलब्धिपर तीनों यूनिवर्सिटी को बधाई है। उन्होंने कहा- IISc बेंगलुरु, IIT बॉम्बे और IIT दिल्ली को बधाई देता हूं। भारत के और अधिक यूनिवर्सिटी और इंस्टीट्यूट्स को वैश्विक उत्कृष्टता सुनिश्चित करने और युवाओं के बीच बौद्धिक कौशल का समर्थन करने के प्रयास चल रहे हैं। साथियों,,, हर भारतीय के लिए यह एक गौरवपूर्ण अनुभूति करने का समय है कि हमारी तीन विश्वविद्यालयों ने वैश्विक स्तर पर रैंकिंग बनाई है और भारत का शिक्षा क्षेत्र में नाम रोशन किया है। इसके दूरगामी परिणाम भविष्य में नजर आएंगे। अनेक देशों के विद्यार्थियों का भारत में शिक्षा ग्रहण करने कीओर रुझान बढ़ेगा जिससे अनेक दूरगामी लाभ हमें देखने को मिलेंगे। अतः अगर हम पूरे विवरण का अध्ययन कर उसका विश्लेषण करें तो हम पाएंगे कि विश्व में भारतीय शिक्षा और अनुसंधान क्षेत्र की प्रतिष्ठा हाल ही में बढ़ी है और लंदन के क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2022 में तीन भारतीय यूनिवर्सिटीयों ने रैंक बनाई है जो काबिले तारीफ है और भारतीय शिक्षा प्रणाली विश्व प्रसिद्ध है, हमें और चार कदम आगे बढ़कर शिक्षा में वैश्विक उत्कृष्ट एकमात्र लक्ष्य बनाकर, बौद्धिक कौशल्य विकास ध्येय बनाना होगा जो भारतीय शिक्षा प्रणाली को प्रोत्साहित करेगा। 
- संकलनकर्ता- कर विशेषज्ञ एडवोकेट किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

*Ad : स्नेहा सुपर स्पेशियलिटी हास्पिटल (यश हास्पिटल एण्ड ट्रामा सेन्टर) | डा. अवनीश कुमार सिंह M.B.B.S., (MLNMC, Prayagraj) M.S. (Ortho) GSVM, M.C, Kanpur, FUR (AIMS New Delhi), Ex-SR SGPGI, Lucknow, हड्डी एवं जोड़ रोग विशेषज्ञ | इमरजेंसी सुविधाएं 24 घण्टे | मुक्तेश्वर प्रसाद बालिका इण्टर कालेज के सामने, टी.डी. कालेज रोड, हुसेनाबाद-जौनपुर*
Ad

*AD : Prasad Group of Institutions | Jaunpur & Lucknow | ADMISSION OPEN 2021-22 | MBA, B.Tech, B.Pharm, D.Pharm, Polytechnic | B.Pharm, D.Pharm & Polytechnic Contact Us 7408120000, 9415315566 | B.Tech, MBA Contact Us 9721457570, 9628415566 | Punch-Hatia, Sadar, Jaunpur, Uttar Pradesh | www.pgi.edu.in*
Ad

*Ad : ◆ शुभलगन के खास मौके पर प्रत्येक 5700 सौ के खरीद पर स्पेशल ऑफर 1 चाँदी का सिक्का मुफ्त ◆ प्रत्येक 11000 हजार के खरीद पर 1 सोने का सिक्का मुफ्त ◆ रामबली सेठ आभूषण भण्डार (मड़ियाहूँ वाले) ◆ 75% (18Kt.) है तो 75% (18Kt.) का ही दाम लगेगा ◆ 91.6% (22Kt.) है तो (22Kt.) का ही दाम लगेगा ◆ वापसी में 0% कटौती ◆ राहुल सेठ 09721153037 ◆ जितना शुद्धता | उतना ही दाम ◆ विनोद सेठ अध्यक्ष- सर्राफा एसोसिएशन, मड़ियाहूँ पूर्व चेयरमैन प्रत्याशी- भारतीय जनता पार्टी, मड़ियाहूँ मो. 9451120840, 9918100728 ◆ पता : के. सन्स के ठीक सामने, कलेक्ट्री रोड, जौनपुर (उ.प्र.)*
Ad



from Naya Sabera | नया सबेरा - No.1 Hindi News Portal Of Jaunpur (U.P.) https://ift.tt/2RNi8C9


from NayaSabera.com

Comments