कोविड-19 - वैज्ञानिक आधार को बढ़ावा देना जरूरी - गांवों में भ्रांतियों को ख़ारिज कर जनजागरण अभियान चलाना जरूरी | #NayaSaberaNetwork

कोविड-19 - वैज्ञानिक आधार को बढ़ावा देना जरूरी - गांवों में भ्रांतियों को ख़ारिज कर जनजागरण अभियान चलाना जरूरी | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
21वीं सदी के डिजिटल युग में भ्रांतियों, टोटकों और जादू टोना प्रथा को स्वतः संज्ञान लेकर लगाम लगाना जरूरी - एड किशन भावनानी
गोंदिया - वैश्विक रूप से कोरोना महामारी अपना तांडव मचा रही है। हालांकि कुछ विकसित देशों ने इसे वैज्ञानिक आधार, वैक्सीनेशन, लॉकडाउन, दिशानिर्देशों का कड़ाई से पालन के आधार पर कोरोना महामारी को मात देने के करीब पहुंच गए हैं और धीरे-धीरे सामान्य स्थिति की ओर बढ़ने हेतु अग्रसर हो गए हैं।...बात अगर हम भारत की करें तो आज सोमवार दिनांक 17 मई 2021 को केंद्रीय और राज्यों के स्तर पर आए आंकड़ों से दिख रहा है कि कोरोना महामारी पर लगातार तीन दिन से हम संक्रमण पर दबाव बढ़ाने में कामयाब हो रहे हैं और आगे भी इसी तरह संक्रमण के मामले और दर घटती जाएगी ऐसा हम हौसला रख पूरी मुस्तैदी से जंग लड़ना जारी रखें तो सफलता हमें जरूर मिलेगी यह पक्का विश्वास है।....बात अगर हम इस 21 वीं सदी के वैज्ञानिक, डिजिटल युग में भ्रांतियों, टोटकों और जादू टोने की करें तो कुछ अजीब सा महसूस होता है।खासकर इन भ्रांतियां,  टोटकों को अगर कोविड-19 जैसी घातक जानलेवा और फेफड़ोंको अत्यधिक तीव्रता से संक्रमित कर मानव को यमलोक पहुंचाने मैं अडिग इस डब्ल्यूएचओ द्वारा घोषित महामारी को दूर करने में भी अगर हम इन भ्रांतियों, टोटकों, जादूटोना का उपयोग करेंगे तो यह अपने आप में नाइंसाफी होगी यह मेरा मानना है।.... बात अगर हम भ्रांतियों की करें तो आज के दौर में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और टीवी चैनलों के माध्यम से हम ग्राउंड रिपोर्टिंग देख रहे हैं कि किस तरह इस कोरोना महामारी ने गांव तक तीव्रता से दस्तक दी है और बड़ी तेजी से शहरों से गांव की ओर फैल रही है। जहां अपेक्षाकृत कई गुना कम मेडिकल संसाधन दवाइयां हैं और कई गांव में तो अस्पताल कई किलोमीटर दूर है और वहां कोरोना महामारी ने दस्तक दे दी है और उनका इलाज भ्रांतियों, टोटकों, जादू टोना धुए से भरी काली हंडी को घुमाकर, तालाब पर भीड़ जमा कर कोरोना को भगाने की पूजा, संतरे के बगीचों में, जंगलों में स्लाइन लगाकर,  ऐसे अनेक भ्रांतियों से उपाय किए जा रहे हैं। दूसरी ओर इनका इलाज ऐसे व्यक्तियों द्वारा किया जा रहा है जिनके पास कोई डिग्रियां तक नहीं है या अस्पताल का कोई लाइसेंस नहीं है दूसरी भाषा में झोलाछाप डॉक्टरों द्वारा इलाज किया जा रहा है। ऐसे इलाज से संक्रमण पूरे परिवार, फिर गांव, फिर आस-पास के गांव, में फैलने की उम्मीद रहेगी। अतः हमारे गांव वाले ग्रामीण भाई-बहनों से निवेदन है कि वह स्वत संज्ञान लेकर ऐसे गफलतों से बचें और गांव में टेस्टिंग करने आई मेडिकल टीम से टेस्टिंग कराकर उनके दिशानिर्देशों पर चलें और मानवता की सेवा में सहयोग करें।...बात अगर हम इन भ्रांतियोंको बढ़ावा देने वाले प्रबुद्ध शिक्षित, कुशल नेतृत्व , कलाधारी, नामी-गिरामी, व्यक्तित्व की करें और उनके वक्तव्य में इन भ्रांतियों को बढ़ाने का संज्ञान मिले तो देश के लिए हैरानी वाली बात होगी। यह वक्तव्य जैसे गंगा मैया में स्नान करने या गंगा मैया के आस पास कोरोना कभी नहीं भटकेगी, गोमूत्र का सेवन करने से कोरोना महामारी नहीं होगी या फेफड़ों पर संक्रमण नहीं होगा, या यह वैक्सीन तो उस पार्टी की वैक्सीन है, वैक्सीन लगाने से बांझपन आता है, पहले पीएम को वैक्सीन लगाना चाहिए, इस तरह के वक्तव्य और कुछ भ्रांतियां हमने बहुत पहले से ही इलेक्ट्रॉनिक मीडिया और टीवी चैनलों के माध्यम से सुनते और देखते आ रहे हैं। मेरा निजी मानना है कि इससे जनता में एक भ्रम की स्थिति फैलती है और इन पर विश्वास कर जनता इसका अनुसरण या पालन करने लगती है जिससे संक्रमण अपनी चैन को मजबूती से बढ़ाने में कामयाब होता है जिससे सबसे अधिक नुकसान आम नागरिकों को वाहन करना होता है। अतः सरकार द्वारा इन वक्तव्य को स्वत संज्ञान लेकर या वक्ता द्वारा स्वतः ही इस बयान को ख़ारिज या वापस लेने की पहल करनी चाहिए।....बात अगर हम वैज्ञानिक आधारों का आविष्कार करने वाली मेडिकल एजेंसीयों की करें तो, नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एंडसीडीसी) इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) कोरोना वायरस के विभिन्न वेरिएंट का पता लगाने के लिए बने सलाहकारों के सरकारी फोरम, इंडियन सार्स-सीओवी-2 जिनोमिक्स कंसोर्टिया (आईएनएसएजीओजी) इत्यादि देश की 10 बड़ी प्रयोगशाला तालमेल से वायरस पर कार्य कर रही है जिनकी कुल मिलाकर 15 समितियां है जिनकी अभी तक 67 रिव्यू मीटिंग हुई है ऐसी जानकारी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया चैनलों द्वारा दी गई है। इसके अनुसार पूरी दुनिया में वैज्ञानिक दृष्टिकोण और वैज्ञानिक आधार पर सटीकता में भारत का डंका बजता है। लेकिन हम अभी कुछ समय से जब से,,गांव में महामारी ने पैर पसारे हैं तो भ्रांतियों, टोटकों, का सिलसिला लगातार सुनाई दे रहा है और कुछ वक्तव्य भी सुनाई दे रहे हैं। हालांकि इन भ्रांतियों का संबंध हमारे पूर्वजों के वैद्यकीय ज्ञान या सामाजिक प्रथा के रूप में हो सकता है। परंतु उस समय इतनी मेडिकल सुविधाएं और संसाधन नहीं थे। आज के डिजिटल युग में अनेक मेडिकल संसाधन उपलब्ध हैं। अतः हमारे हर ग्रामीण क्षेत्र के साथियों को आगे आकर स्वतः संज्ञान लेकर इन भ्रांतियों, टोटकों, का विरोध कर कोविड-19 के पुराने या नए सिम्टम्स का थोड़ा साभी आभास होता है तो गांव पहुंची टीम से टेस्ट करवाएं और पॉजिटिव आने पर क्वॉरेंटाइन हो जाएं ताकि अन्य साथियों को संक्रमित होने से बचाया जा सके। अतः उपरोक्त पूरे विवरण का हम विश्लेषण करें तो हमें यह ज्ञात होता है कि इस महामारी के इलाज में हम वैज्ञानिक आधार को बढ़ावा देना चाहिए। शासन, प्रशासन, अधिकारियों, को इस क्षेत्र में रिसर्च करने वाली एजेंसियों की सिफारिशों पर ही अपनी रणनीतिक रोडमैप और दिशानिर्देश बनाया जाना जारी रखना चाहिए।
-संकलनकर्ता लेखक- कर विशेषज्ञ एडवोकेट किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

*Ad : एस.आर.एस. हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेन्टर | स्पोर्ट्स सर्जरी | डॉ. अभय प्रताप सिंह | (हड्डी रोग विशेषज्ञ) | आर्थोस्कोपिक एण्ड ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ऑर्थोपेडिक सर्जन | # फ्रैक्चर (नये एवं पुराने)| # ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी | # घुटने के लिगामेंट का बिना चीरा लगाए दूरबीन | # पद्धति से आपरेशन | # ऑर्थोस्कोपिक सर्जरी | # पैथोलोजी लैब | # आई.सी.यू.यूनिट | मछलीशहर पड़ाव, ईदगाह के सामने, जौनपुर (उ.प्र.) | सम्पर्क- 7355358194, Email : srshospital123@gmail.com*
Ad

*Ad : ◆ शुभलगन के खास मौके पर प्रत्येक 5700 सौ के खरीद पर स्पेशल ऑफर 1 चाँदी का सिक्का मुफ्त ◆ प्रत्येक 11000 हजार के खरीद पर 1 सोने का सिक्का मुफ्त ◆ रामबली सेठ आभूषण भण्डार (मड़ियाहूँ वाले) ◆ 75% (18Kt.) है तो 75% (18Kt.) का ही दाम लगेगा ◆ 91.6% (22Kt.) है तो (22Kt.) का ही दाम लगेगा ◆ वापसी में 0% कटौती ◆ राहुल सेठ 09721153037 ◆ जितना शुद्धता | उतना ही दाम ◆ विनोद सेठ अध्यक्ष- सर्राफा एसोसिएशन, मड़ियाहूँ पूर्व चेयरमैन प्रत्याशी- भारतीय जनता पार्टी, मड़ियाहूँ मो. 9451120840, 9918100728 ◆ पता : के. सन्स के ठीक सामने, कलेक्ट्री रोड, जौनपुर (उ.प्र.)*
Ad

*Ad : ADMISSION OPEN - SESSION 2021-2022 | SURYABALI SINGH PUBLIC Sr. Sec. SCHOOL | Classes : Nursery To 9th & 11th | Science Commerce Humanities | MIYANPUR, KUTCHERY, JAUNPUR | Mob.: 9565444457, 9565444458 | Founder Manager Prof. S.P. Singh | Ex. Head of department physics and computer science T.D. College, Jaunpur*
Ad



from NayaSabera.com

Comments