बनी वह दुल्‍हन | #NayaSaberaNetwork

बनी वह दुल्‍हन | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
------------------

कंगन पहनते 
याद आयी उसे 
पृथ्वी की परिधि 

चाँद सी चमकी 
माथे पर बिंदी 

आँखों में बँध गया 
नि:स्‍सीम आकाश
आँसुओं में हिल्‍लोरे
सातों सागर 

वह अभी अभी 
बनी थी दुल्हन 

भरा जाना था उसकी 
सीधी मांग में सिंदूर 
जीवन भर की वक्र यात्रा का।

युवा लेखिका शुचि मिश्रा जौनपुर

*Ad : हड्डी एवं जोड़ रोग विशषेज्ञ डॉ. अवनीश कुमार सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad



*Ad : अपना दल व्यापार मण्डल प्रकोष्ठ के मंडल प्रभारी अनुज विक्रम सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
Ad


*Ad : श्री गांधी स्मारक इण्टर कालेज समोधपुर के पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. रणजीत सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
Ad



from NayaSabera.com

Comments