देश में ऊर्जा की बढ़ती ज़रूरतों को पूरा करने हरित ऊर्जा हाइड्रोजन - प्रारूप बिजली (प्रमोटिंग रिन्यूएबल एनर्जी थ्रू ग्रीन एनर्जी ओपन सोर्सेज) नियमावली 2021 जारी - जनता से 30 दिनों के भीतर राय मांगी | #NayaSaberaNetwork

देश में ऊर्जा की बढ़ती ज़रूरतों को पूरा करने हरित ऊर्जा हाइड्रोजन - प्रारूप बिजली (प्रमोटिंग रिन्यूएबल एनर्जी थ्रू ग्रीन एनर्जी ओपन सोर्सेज) नियमावली 2021 जारी - जनता से 30 दिनों के भीतर राय मांगी | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
भारत में बिजली क्षेत्र में क्रांति - हरित हाइड्रोजन,कचरे सहित नवीकरणीय स्त्रोतों से उर्जा बनाई जाएगी - एड किशन भावनानी
गोंदिया - भारत में जिस तीव्र गति से नई नई योजनाएं और उन्नति के मार्गपर चलने का सिलसिला जारी है। इससे एक आस बंध गई है कि हमारा भारत फिर सोने की चिड़िया होने की राह पर चल रहा है।... साथियों बात अगर हम पेट्रोल- डीजल,उर्जा की करें तो इस क्षेत्र में बहुतही बड़े सकारात्मक विषय पर रणनीतिक रोड मैप बनाया गया है और फोकस, नेशनल हाइड्रोजन मिशन पर का ऐलान पीएम ने 75 वीं अमृत जयंती स्वतंत्रता दिवस पर कर दिया है और कहा कि, हमें जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए एक दूरगामी योजना को अंजाम देना ही पड़ेगा। जिसकी घोषणा हो चुकी है और अब भारत को पेट्रोल-डीजल ऊर्जा क्षेत्र में प्रोडक्शन और एक्सपोर्ट का अब बनाना ही होगा...। साथियों बात अगर हम हरित हाइड्रोजन की ऊर्जा क्षेत्र में उपलब्धि की करें तो इसकी शुरुआत हो गई है। बिजली मंत्रालय ने प्रारूप बिजली (ग्रीन एनर्जी ओपन एक्‍सेस के माध्‍यम से नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देना) नियमावली, 2021 जारी की है और आम जनता से इस मसौदे पर 30 दिनों के भीतर अपनी राय मांगी है ताकि इसकी प्रक्रिया को आगे बढ़ाकर कैबिनेट में पेश कर एक विधेयक का मसौदा बनाया जा सके।...साथियों बात अगर हम इस मसौदे की करें तो,16 अगस्त 2021 को जारी पीआईबी की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार यह नियमावली का प्रारूप ग्रीन एनर्जी की खपत और खरीदारी को लेकर है। इसमें कचरे से बनाई जाने वाली ऊर्जा के प्लांट को भी शामिल किया गया है। ग्रीन एनर्जी प्लांट से जो ऊर्जा पैदा होगी, उसे किस दर पर कोई खरीद सकता है और उस ऊर्जा की खपत कैसे होगी, नए नियमावली के प्रारूप में इसकी जानकारी दी गई है। प्रारूप नियमावली में रिन्यूएबल परचेज ऑब्लिगेशन, ग्रीन एनर्जी ओपन सोर्स, नोडल एजेंसी, ग्रीन एनर्जी ओपन एक्सेस, बैंकिंग और क्रॉस सब्सिडी सरचार्ज के बारे में जानकारी दी गई है, प्रारूप में, ग्रीन एनर्जी के लिए शुल्क या टैरिफ भी निर्धारित किए जाएंगे। जिसका प्रस्ताव मसौदे में दिया गया है।इसमें बताया गया है कि ग्रीन एनर्जी का टैरिफ एक आयोग तय करेगा जिसका नाम एप्रोप्रिएट कमीशन है। टैरिफ में रिन्यूएबल एनर्जी की परचेज कॉस्ट, क्रॉस सब्सिडी (अगर तय हुआ तो) और सर्विस चार्ज को शामिल किया जा सकता है।ये चार्ज ग्रीन एनर्जी का वितरण करने वाली कंपनियों पर लागू होगा। इसके लिए कंपनियों को सरकार की तरफ से लाइसेंस दिया जाएगा। आम लोगों के लिए नियम इस प्रकार हैं - ग्रीन एनर्जी लेने के लिए लोगों को आवेदन देना होगा जिसे 15 दिन के अंदर मंजूर कर लिया जाएगा। यह नियम सिर्फ उनलोगों के लिए है जिनकी ऊर्जी कीखपत 100 किलोवॉट या उससे अधिक है, वे ही ग्रीन एनर्जी ओपनएक्सेस के जरिये बिजली ले सकेंगे। इसमें सप्लाई की कोई सीमा तय नहीं की जाएगी। हालांकि सप्लाई सीमा की यह छूट तभी मिलेगी जब बिजली की मांग और उसकी खपत में कोई बहुत बड़ा बदलाव न हो। देश में ऊर्जा की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने और कच्चे तेल पर निर्भरता कम करने के लिए ग्रीन हाइड्रोजन जैसेविकल्पों पर जोर दिया जा रहा है। सरकार ने इस दिशा में तेजी से कदम बढ़ाया है और नेशनल हाइड्रोजन मिशन का ऐलान किया गया है। सरकार में हालिया बजट में भी इसकी घोषणा की है। सरकार की इस पहल का देश की सभी कंपनियों और उद्योगों ने स्वागत किया है। कई बड़ी-बड़ी निजी कंपनियों सहित सरकारी तेल कंपनियों ने भी इसका स्वागत किया है। ये सभी कंपनियां कार्बन मुक्त ईंधन को अपनाने पर जोर दे रही हैं। हाइड्रोजन को सबसेस्वच्छ ऊर्जा का स्रोत माना जाता है। इसे पैदा करने में कोई झंझट नहीं।यहां तक कि कचरे से भी हाइड्रोजन एनर्जी पैदा की जा सकती है। प्राकृतिक गैस, बायोगैस और सोलर एवं वायु ऊर्जा से भी ग्रीन हाइड्रोजन एनर्जी पैदा की जा सकती है।अभी देश-दुनिया में सबसे ज्यादा चर्चा ग्रीनहाइड्रोजन की है। इसे भविष्य का ईंधन बताया जा रहा है। भारत में पीएम ने नेशनल हाइड्रोजन मिशन का ऐलान किया है। ग्रीन हाईड्रोजन पर बात करते हुए एक केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत ग्रीन हाईड्रोजन का भी एक्सपोट करेगा। ग्रीन हाईड्रोजन को बनाने की प्रकिया पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि टॉयलेट का पानी शुद्ध करके ग्रीन हाईड्रोजन तैयार करेंगे। आज ग्रीन हाईड्रोजन रूपी विकल्प की बहुत तात्कालिक जरूरत है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में ट्रक और बसें भी ग्रीन हाईड्रोजन से चलेंगी।इसके लिए गाड़ियों में फ्यूल सेल लगेंगे। फ्यूल सेल को बैटरी मान सकते हैं जिसमें कैथोड और एनोड नाम के इलेक्ट्रोड लगे होते हैं। इन इलेक्ट्रोड के माध्यम से रासायनिक प्रतिक्रिया होती है और उसी से ऊर्जा पैदा की जाती है। दरअसल फ्यूल सेल ही हाइड्रोजन गैस की खपत करेंगे और ऊर्जा देंगे।अंत में अवशेष के रूप में पानी बचेगा। इसमें धुआं निकलने की गुंजाइश बिल्कुल नहीं है। हाइड्रोजन गैस को पैदा करने के लिए प्राकृतिक गैस, आण्विक ऊर्जा, बायोमास, सोलर और वायु ऊर्जा का इस्तेमाल किया जाएगा। इस ऊर्जा को कार और बड़ी गाड़ियों में लगा सकते हैं। घरों में भी बिजली के रूप में इसका इस्तेमाल हो सकेगा। अतः अगर हम उपरोक्त पूरे विवरण का अध्ययन कर उसका विश्लेषण करें तो हम पाएंगे कि,देश में ऊर्जा की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए हरित ऊर्जा हाइड्रोजन अत्यंत ही जरूरी हो गया है, इसी लिए प्रारूप बिजली (प्रमोटिंग रिन्यूएबल एनर्जी थ्रू ग्रीन एनर्जी ओपन सोर्सेज) नियमावली 2021 जारी की गई है। भारत में बिजली क्षेत्र में हरित हाइड्रोजन के रूप में एक क्रांति की शुरुआत हो रही है, जिसमें कचरे सहित नवीनीकरण स्रोतों से उर्जा बनाई जाएगी। 
संकलनकर्ता कर विशेषज्ञ एडवोकेट किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

*प्रवेश प्रारम्भ — निर्मला देवी फार्मेसी कॉलेज (AICTE, UPBTE & PCI Approved) कॉलेज कोड-4866 | नयनसन्ड, गौराबादशाहपुर, जौनपुर, उ0प्र0 | कोर्स — B.Pharma (Allopath), D.Pharma (Allopath) | द्विवर्षीय पाठ्यक्रम, योग्यता-इण्टर (बायो/मैथ) | Mob:- 8948273993, 9415234998 | निर्मला देवी पॉलिटेक्निक कॉलेज | कालेज कोड-4831 | नयनसण्ड, गौराबादशाहपुर, जौनपुर, उ0प्र0 | # इलेक्ट्रिकल इन्जीनियरिंग | # इलेक्ट्रिकल एण्ड इलेक्ट्रिानिक इन्जीनियरिंग| # सिविल इन्जीनियरिंग| # मैकेनिकल इन्जीनियरिंग ऑटोमोबाईल| # मैकेनिकल इन्जीनियरिंग प्रोडक्शन | # ITI अथवा 12 पास विद्यार्थी सीधे द्वितीय वर्ष में प्रवेश प्राप्त करें| मो. 842397192, 9839449646 | छात्राओं की फीस रू0 20,000 प्रतिवर्ष*
Ad

*Ad : ◆ सोने की खरीददारी पर शानदार ऑफर ◆ अब ख़रीदे सोना "जितना ग्राम सोना उतना ग्राम चांदी फ्री" ऑफर के साथ ◆ पूर्वांचल के सबसे प्रतिष्ठित ज्वेलरी शोरूम "गहना कोठी" से एवं पाए प्रत्येक 5000 तक की खरीद पर लकी ड्रॉ कूपन भी ◆ जिसमें आप जीत सकते हैं मारुति सुजुकी एर्टिगा ◆ मारुति सुजुकी स्विफ्ट एवं ढेर सारे उपहार ◆ तो देर किस बात की ◆ आज ही आएं और पाएं जबरदस्त ऑफर ◆ 1. हनुमान मंदिर के सामने, कोतवाली चौराहा, 9984991000, 9792991000, 9984361313 ◆ 2. सद्भावना पुल रोड नखास, ओलन्दगंज, 9838545608, 7355037762*
Ad

*Ad : जौनपुर का नं. 1 शोरूम : Agafya furnitures | Exclusive Indian Furniture Showroom | ◆ Home Furniture ◆ Office Furniture ◆ School Furniture | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर - 222002*
Ad



from Naya Sabera | नया सबेरा - No.1 Hindi News Portal Of Jaunpur (U.P.) https://ift.tt/3D0Mm7n


from NayaSabera.com

Comments