मुंशी प्रेमचंद! | #NayaSaberaNetwork



नया सबेरा नेटवर्क
मुंशी प्रेमचंद!

करें नमन साहित्य-सम्राट को,
कितनी अच्छी कफन कहानी।
पंच परमेश्वर, नमक का दरोगा,
कौन  भूलेगा, दिल  की  रानी।

गबन,गोदान,ठाकुर का कुँआ,
कितनी   सबको    भाती   है।
बुधिया, घीसू, माधव की रात,
आज  भी  हमको रुलाती  है।

बूढ़ी काकी,  वो  गुल्ली-डंडा,
कैसे  भूलें  हम पूस की  रात।
दो   बैलों   की  कथा, तगादा,
नशा,  शांति,  मंत्र,  वज्रपात।

एक से  बढ़कर  एक  कहानी,
वो  भरी   हुई   हैं   भावों  से।
आजादी की अलख जगाकर,
तब  हुंकार उठी उन गाँवों से।

धन्य कोख  है, धन्य वो माता,
और  धन्य  वो   लमहीं  गाँव।
बादशाह  बेताज  कलम  का,
चली  रही साहित्य  की  नाव।

पंच  परमेश्वर  अब  रहे  नहीं,
नित्य  बढ़  रहे  गाँव में केस।
सुलझे  झगड़े भी  उलझाकर,
हिला  रहे   हैं   अपना   देश।

रामकेश एम.यादव(कवि,साहित्यकार),मुंबई

*#5thAnniversary : उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ, जौनपुर के जिलाध्यक्ष अमित सिंह की तरफ से जौनपुर के नं. 1 न्यूज पोर्टल नया सबेरा डॉट कॉम की 5वीं वर्षगांठ पर पूरी टीम को हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad

*#5thAnniversary : प्राथमिक शिक्षक संघ, डोभी जौनपुर के अध्यक्ष आलोक सिंह रघुवंशी की तरफ से जौनपुर के नं. 1 न्यूज पोर्टल नया सबेरा डॉट कॉम की 5वीं वर्षगांठ पर पूरी टीम को हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad

*#5thAnniversary : श्री गांधी स्मारक इण्टर कालेज समोधपुर जौनपुर के पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. रणजीत सिंह की तरफ से जौनपुर के नं. 1 न्यूज पोर्टल नया सबेरा डॉट कॉम की 5वीं वर्षगांठ पर पूरी टीम को हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad



from Naya Sabera | नया सबेरा - No.1 Hindi News Portal Of Jaunpur (U.P.) https://ift.tt/3rIzJZH


from NayaSabera.com

Comments