#Bollywood : 2 महीने की उम्र में माँ और 5 साल में पिता खोने वाले राज चांगरा ऐसे बने हज़ारों कलाकारों के लिए 'उम्मीद'…


मुंबई : मुंबई में एक छोटी सी कास्टिंग एजेंसी चलाने वाले राजस्थान के राज चांगरा को हर दिन सैकड़ों फ़ोन कॉल और हज़ारों मैसेज आते हैं । मैसेज और कॉल करने वाले ज़्यादातर नए नवेले कलाकार होते है। इनमें से भी एक बड़ा तबका ऐसे लोगों का है जिन्होंने कभी कैमरे का सामना नहीं किया। लेकिन आंखों में सपने इतने है कि हर दरवाज़े को खटखटाना चाहते हैं , शायद कोई हो हो काम दे दे…शायद कोई उनके सपने को पूरा करने का एक मौका दे दे । बस यहीं से राज चांगरा का काम शुरू होता है । राज कास्टिंग डायरेक्टर हैं । बड़ी बड़ी महंगी फिल्मों से लेकर छोटे छोटे म्यूजिक वीडियो के लिए भी कलाकार मुहैया करवाते हैं । हालांकि राज खुद सिर्फ 4 साल पहले राजस्थान के श्री गंगानगर से मुंबई काम की तलाश में आये थे । पहले दो साल एक मशहूर फ़िल्म निर्माता कम्पनी के साथ काम किया उसके बाद जान पहचान बड़ी तो खुद की कास्टिंग एजेंसी शुरू कर दी। शुरू में काफी मुश्किलें आईं लेकिन मेहनत और लगन से उनका सामना किया । सावधान इंडिया और क्राइम पेट्रोल जैसे शोज के लिये नए कलाकारों की काफी मांग रहती है । राज इन्हें कलाकार मुहैया करवाते हैं। राज चांगरा के इंस्टाग्राम एकाउंट पर हमें कई कलाकारों के वीडियो मिले जिसमे ये सब राज का शुक्रिया अदा कर रहे थे। मसलन ताज़ा वीडियो मुंबई की शिवानी सिंह का है जो कहती है " राज भाई ने मुझे बड़ी आसानी से फिल्मी दुनिया में एंट्री दिला दी, आज मेरे पास लगातार काम है "। वहीं संतोष कुमार नाम के एक शख्स एक वीडियो में कहते नज़र आये की 'राज भाई आपने मुझे कास्ट किया इसके लिए धन्यवाद '। खैर जिसे काम मिल वो खुश है लेकिन अभी भी ऐसे बहुत से हैं जिन्हें काम और नाम की तलाश है। राज बताते हैं कि उन्हें हर दिन पूरे देश से फोन कॉल और मैसेजेस आते हैं उन लोगों के जिन्हें फ़िल्म इंडस्ट्री में काम की तलाश है । राज कोशिश करते हैं कि ज़्यादा से ज़्यादा लागों की बात सुन सकें और उनके हुनर के हिसाब से उन्हें काम दिल सकें । हालांकि इतने फ़ोन उठाना और हज़ारों लोगों के मैसेज पढ़ना उनके लिए भी आसान नहीं होता इसलिए आजकल वो इस काम में अपने एक सहयोगी की मदत लेते हैं । राज ने बताया कि वो श्री गंगानगर के एक छोटे से गांव जैतसर से हैं। बचपन में बहुत छोटी उम्र में मां बाप को खो देने के बाद बूढ़ी दादी ने उनकी जैसे तैसे परवरिश की। शुरुआती शिक्षा पूरी होने के बाद कुछ बनने का सपना लेकर 22 साल के राज चांगरा 4 साल पहले मुंबई आ गए और जो खुद कभी अपने लिए काम ढूंढ रहा था वो आज न जाने कितनों को काम दे चुका है। राज कहते हैं कि ' सर मुझे नए चेहरों को फिल्मी दुनिया में स्ट्रगलर कहा जाता है लेकिन मुझे तो हर कलाकार में श्री गंगानगर के मासूम राज चांगरा ही दिखता है जिसे बस एक सही किक की ज़रूरत होती है ' ।







from Naya Sabera | नया सबेरा - No.1 Hindi News Portal Of Jaunpur (U.P.) https://ift.tt/3vH9R0B


from NayaSabera.com

Comments