कोरोना काल और प्रकृति | #NayaSaberaNetwork

नया सबेरा नेटवर्क
=============
ना जाने आज कैसा दौर आ गया है
दूर दूर रहने का माहौल आ गया है
जो साथ-साथ चलने में गुरूर समझते थे
अब दूर दूर रहनाहीं सुकून समझते हैं
प्रकृति ने अपना कैसा रुख अपनाया है
लोगों को प्रकृति का महत्व अब समझ आया है
लोग पागल थे अब तक जमी के पीछे
सांसों की कीमत ने आज पागल बनाया है
मंदिर मस्जिद गुरुद्वारा भी लग रहा बेगाना है
अब प्रकृति ही लोगों का सबसे बड़ा ठिकाना है
आज कीमत जरूरी वस्तु की समझ आई है
जिसके पीछे पागल थे दौलत भी काम ना आई है
प्रकृति का सौंदर्य बनाए रखना ही अब उपचार
खुद को बचाना है तो बंद करो प्रकृति का संहार।।
काजल सिंह बी.ए. द्वितीय वर्ष
तिलवारी, घनश्यामपुर, जौनपुर।

*Ad : Admission Open : Nehru Balodyan Sr. Secondary School | Kanhaipur, Jaunpur | Contact: 9415234111, 9415349820, 94500889210*
Ad

*Ad : UMANATH SINGH HIGHER SECONDARY SCHOOL SHANKARGANJ (MAHARUPUR), FARIDPUR, MAHARUPUR, JAUNPUR - 222180 MO. 9415234208, 9839155647, 9648531617*
Ad


*Ad : जौनपुर टाईल्स एण्ड सेनेट्री | लाइन बाजार थाने के बगल में जौनपुर | सम्पर्क करें - प्रो. अनुज विक्रम सिंह, मो. 9670770770*
Ad


from NayaSabera.com

Comments