यूपी पंचायत चुनाव में ड्यूटी देने वालों की मौत आंकड़ों और मानकों में उलझी | #NayaSaberaNetwork

यूपी पंचायत चुनाव में ड्यूटी देने वालों की मौत आंकड़ों और मानकों में उलझी | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
अजय कुमार
पंचायत चुनाव सम्पन्न होने के बाद लोगों के बीच इसकी खुमारी भी उतर चुकी हैं। विजयी प्रत्याशियों ने कामकाज संभाल लिया है, वहीं हारे हुए उम्मीदवार हार के गम को भूलकर आगे बढ़ने में लगे हैं। यदि पंचायत चुनाव को कोई नहीं भूल पा रहा है तो वह लोग जिन्होंने इस चुनाव में अपनों को खोया है। इसमें चुनाव लड़ने नेता और उनको लड़वाने वाले उनके समर्थकों के अलावा वह लोग भी हैं जिनका चुनाव से कोई लेना-देना नहीं था, यह लोग सरकारी अधिकारी, कर्मचारी, शिक्षक और पुलिसकर्मी थे जिन्हें पंचायत चुनाव की ड्यूटी पर लगाया गया था। ड्यूटी के दौरान ही इनकी कोरोना या अन्य स्वास्थ्य कारणों आदि वजहों से मौत हो गई थी। ऐसे लोगों की संख्या पूछी जाए तो इसका जबाब अलग-अलग है। योगी सरकार कहती है कि चुनाव ड्यूटी के दौरान मात्र तीन सरकारी कर्मचारियों की मौत हुई है जबकि शिक्षक संघों का कहना है कि प्रदेश में हाल में हुए उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव में ड्यूटी करने वाले 1,621 शिक्षकों, शिक्षामित्रों और अन्य विभागीय कर्मियों की कोरोना से मौत हुई है। अतः प्रत्येक मृतक के परिजन को 1-1 करोड़ रुपये मुआवजा राशि और आश्रितों को सरकारी नौकरी दी जाए।
उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी शिक्षक संघ के 1,621 लोगों की मौत पर तो कुछ नहीं कहते हैं लेकिन वह स्थापित मानकों की बात करते हुए शिक्षक संगठनों के दावों के विपरीत चुनाव ड्यूटी के दौरान सिर्फ तीन शिक्षकों की मौत की बात कह रहे है। वहीं बेसिक शिक्षा विभाग के सचिव सत्य प्रकाश की तरफ से जारी प्रेस नोट में भी मतगणना में लगे कर्मचारियों के निवास से ड्यूटी स्थल तक पहुंचने और फिर ड्यूटी समाप्त कर वापस घर पहुंचने के दौरान 3 कर्मचारियों की मौत की बात कही गई है। मृतक के परिजन को अनुग्रह राशि का भुगतान किए जाने का आश्वासन भी दिया गया है। बेसिक शिक्षा मंत्री ने कहा, शिक्षक संघ ने जो सूची दी है, उनमें शामिल सभी लोगों की मौत को चुनाव ड्यूटी के दौरान हुई मौत नहीं माना जा सकता, क्योंकि हमारे पास इसके लिए कोई निर्धारित पैमाना नहीं है। इसके अलावा हमारे पास इसका कोई आडिट भी नहीं है। कोई यह कैसे बता सकता है कि वे कब संक्रमित हुए।
प्राथमिक शिक्षक विभाग की तरफ जारी प्रेस नोट से नाराज शिक्षक सघ के नेता इंसाफ नहीं मिलने पर आंदोलन की बात कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष दिनेश चंद्र शर्मा कह रहे हैं कि उन्होंने 16 मई को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र लिखकर बता दिया है कि प्रदेश के सभी 75 जिलों में पंचायत चुनावों ड्यूटी करने वाले 1,621 शिक्षकों, अनुदेशकों, शिक्षा मित्रों और कर्मचारियों की कोरोना वायरस संक्रमण से मौत हुई थी। पत्र के साथ एक सूची भी संलग्न की गई है जिसके मुताबिक आजमगढ़ जिले में सबसे ज्यादा 68 शिक्षकों-कर्मचारियों की मृत्यु हुई है। प्रदेश में 23 ऐसे जिले हैं जहां 25 से अधिक शिक्षकों-कर्मचारियों की संक्रमण से मौत हुई थी। शिक्षक संघ चाहता है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश के अनुरूप इन सभी मृत शिक्षकों/शिक्षामित्रों तथा अन्य कर्मचारियों के परिजन को 1-1 करोड़ रुपये मुआवजा दिया जाए। इस बीच उत्तर प्रदेश दूरस्थ बीटीसी शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष अनिल यादव ने शिक्षक मित्रों की मौत का अलग आकड़ा देते हुए बताया कि पंचायत चुनाव में ड्यूटी करने वाले कम से कम 200 शिक्षामित्रों के अलावा 107 अनुदेशकों और 100 से ज्यादा रसोइयों की भी कोरोना संक्रमण के कारण मौत हुई थी। योगी सरकार अगर निष्पक्ष तरीके से मौत की पड़ताल कराए तो यह संख्या काफी ज्यादा हो सकती है।
प्राथमिक शिक्षक संघ ने आरोप लगाया है कि सरकार पंचायत चुनाव ड्यूटी करने या उसके कुछ ही दिनों बाद मरने वाले शिक्षकों और अन्य कर्मियों को मुआवजा देने में दांवपेच कर रही है। सरकार के शासनादेश की भाषा इस तरह लिखी गई है जिससे बहुत बड़ी संख्या में पात्र परिजन इस मुआवजे से वंचित रह जाएंगे। सभी जानते हैं कि कोविड-19 के लक्षण 24 घंटे में ही नजर नहीं आते बल्कि उनके सामने आने में कुछ दिनों का समय लगता है लेकिन सरकार ने अपने शासनादेश में कहा है कि पंचायत चुनाव ड्यूटी करने के 24 घंटे के अंदर जिन कर्मचारियों की मृत्यु होगी उनके परिजन को ही मुआवजा दिया जाएगा। यह सरासर अन्याय है और सरकार को संवेदनशील तरीके से सोच कर निर्णय लेना चाहिए।
(लेखक उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ मान्यताप्राप्त पत्रकार एवं स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं)

*Ad : जौनपुर टाईल्स एण्ड सेनेट्री | लाइन बाजार थाने के बगल में जौनपुर | सम्पर्क करें - प्रो. अनुज विक्रम सिंह, मो. 9670770770*
Ad


*Ad : ◆ सोने की खरीददारी पर शानदार ऑफर ◆ अब ख़रीदे सोना "जितना ग्राम सोना उतना ग्राम चांदी फ्री" ऑफर के साथ ◆ पूर्वांचल के सबसे प्रतिष्ठित ज्वेलरी शोरूम "गहना कोठी" से एवं पाए प्रत्येक 5000 तक की खरीद पर लकी ड्रॉ कूपन भी ◆ जिसमें आप जीत सकते हैं मारुति सुजुकी एर्टिगा ◆ मारुति सुजुकी स्विफ्ट एवं ढेर सारे उपहार ◆ तो देर किस बात की ◆ आज ही आएं और पाएं जबरदस्त ऑफर ◆ 1. हनुमान मंदिर के सामने, कोतवाली चौराहा, 9984991000, 9792991000, 9984361313 ◆ 2. सद्भावना पुल रोड नखास, ओलन्दगंज, 9838545608, 7355037762*
Ad


*Ad : जौनपुर का नं. 1 शोरूम : Agafya furnitures | Exclusive Indian Furniture Showroom | ◆ Home Furniture ◆ Office Furniture ◆ School Furniture | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर - 222002*
Ad
 


from NayaSabera.com

Comments