धर्मापुर में पहलवानों ने कुश्ती के पूर्व कोच का किया स्वागत | #NayaSaberaNetwork

फैज अंसारी
धर्मापुर, जौनपुर। कुश्ती में खुराक नहीं बल्कि कड़ी मेहनत ईमानदारी व समर्पण से अच्छे पहलवान बन कर सकते हैं। यह बातें धर्मापुर के भूलेमऊ गांव में सदगुरु सोहन लीलाटवीर पंचमुखी हनुमान दिशा व्यायामशाला में शनिवार को अपने स्वागत समारोह में खेल विकास प्राधिकरण भारत सरकार के पूर्व कुश्ती कोच चरनदास ने कही। उन्होंने कहा कि पूर्वांचल के बच्चे पहले भी अभाव में रह कर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर परचम लहरा चुके हैं। आज भी इसका सिलसिला जारी है। मिट्टी के अखाड़े से ही पहलवानी की पहचान रही है। शुरूआती दौर में मिट्टी के ही अखाड़े से पहलवान निकल कर ओलंपिक तक का सफर तय किये हैं।
कार्यक्रम के आयोजक राष्ट्रीय पहलवान रेलवे राममूरत यादव ने आये हुए अतिथियों का स्वागत किया। अध्यक्षता कुश्ती संघ के जिलाध्यक्ष केसरी सिंह व संचालन कुश्ती संघ के जिला महासचिव राष्ट्रीय पहलवान सेना लालजी यादव ने किया। संरक्षक डा. बृजेश यदुवंशी ने सभी का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर ओमप्रकाश यादव, विद्याधर राय, संजय यादव, राजनरायन यादव, बांकेलाल यादव, ऋषि यादव, विजय सोनकर आदि उपस्थित रहे।


from NayaSabera.com

Comments