54वें जन्मदिन पर पूरा देश याद कर रहा इरफ़ान को, विदेशों में भी खान को लोग कर रहे मिस | #NayaSaberaNetwork

नया सबेरा नेटवर्क
बॉलीवुड (Bollywood) ही नहीं, हॉलीवुड (Hollywood) में भी अपने जबरदस्त अभिनय की छाप छोड़ने वाले अभिनेता इरफान खान (Irrfan Khan) की एक्टिंग का हर कोई कायल है। उनकी दमदार एक्टिंग और शानदार डायलॉग डिलिवरी का आज भी कोई सानी नहीं। 
पिछले साल (अप्रैल 2020) इस दुनिया को अलविदा कह चुके इरफान अगर आज जीवित होते तो अपना 54वां जन्मदिन सेलिब्रेट करते। बेशक उन्होंने इस दुनिया को बहुत जल्द अलविदा कह दिया, लेकिन उनके चाहने वाले उन्हें इतनी जल्दी अलविदा कहने के मूड में नहीं दिखते।
54वें जन्मदिन पर पूरा देश याद कहा इरफ़ान को, विदेशों में भी खान को लोग कर रहे मिस | #NayaSaberaNetwork


बेहद दिलचस्प और चुनौती भरा रहा उनका सफर
सबसे अलग अंदाज, दिल और दिमाग को भेद कर पार निकल जाने वाली बेचैन आंखें और बेहद शर्मीली सी मुस्कुराहट। इरफान को याद करें तो उनकी छवि हमारे अंदर उभरती है। नाटकों से टीवी धारावाहिकों और फिर फिल्मी पर्दे तक का उनका सफर बेहद दिलचस्प और चुनौती भरा रहा।
7 जनवरी 1967 को जयपुर में जन्मे इरफान का पूरा नाम साहबज़ादा इरफान अली खान था। इरफान एक मुस्लिम पठान परिवार से थे। उनके पिता की छोटी सी दुकान थी। वे टायर का व्यापार करते थे।
जयपुर में ही छोड़ आए 'साहबज़ादा'
अपने वतन जयपुर से साहबज़ादा इरफान अली खान जब दिल्ली आए तो 'साहबज़ादा' को जयपुर में ही छोड़ आए। दिल्ली से मुंबई जाने से पहले ही इरफान अली खान , इरफान खान हो गए। मुंबई में कुछ वक्त बिताने के बाद उन्हें यह एहसास होने लगा कि नाम के आगे खान लगाना काफी बोरिंग है। इसलिये मुंबई में सिर्फ इरफान रह गए।
इस वजह से पिता मारते थे ताना
ये बात सभी को हैरान करती है कि इरफान (Irrfan Khan) पठान परिवार से होने के बावजूद शाकाहारी थे। उनके पिता उन्हें हमेशा इस वजह से ताना भी मारते थे। वे अक्सर कहते कि पठान परिवार में ब्राह्मण पैदा हो गया।
ऐसी थी उनके संघर्ष की कहानी
इरफान ने कई मंचों पर खुद अपने संघर्ष की कहानी सुनाई थी। जब उन्होंने एनएसडी में प्रवेश किया, तभी उनके पिता का निधन हो गया। इसके बाद इरफान को घर से आर्थिक मदद मिलना बंद हो गई। जैसे-तैसे एनएसडी से मिलने वाली फेलोशिप के जरिए उन्होंने अपनी पढ़ाई पूरी की।
ऐसे हुई थी सुतपा से मुलाक़ात
इरफान खान की एनएसडी में सुतपा सिकंदर से मुलाकात हुई। वे सुतपा से प्यार कर बैठे और फिर 23 फरवरी 1995 में दोनों ने शादी कर ली। तब तक इरफान बॉलीवुड में स्टैबलिश नहीं हो पाए थे, लेकिन इसके बावजूद इरफान के संघर्ष के दिनों में सुतपा हमेशा उनके साथ खड़ी रहीं। 
हॉलीवुड फिल्मों में भी आए नजर
?इरफान (Irrfan Khan) ने हॉलीवुड में भी काफी काम किया। 'स्पाइडर मैन', 'जुरासिक वर्ल्ड' और 'इन्फर्नो' जैसी फिल्मों में उनके काम की काफी तारीफ भी हुई। एक इंटरव्यू में हॉलीवुड अभिनेता टॉम हैंक्स ने उनकी सराहना करते हुए कहा था कि इरफान की आंखें भी अभिनय करती हैं।
निगेटिव रोल के लिए मिला था अवॉर्ड
साल 2005 में आई फिल्म 'रोग' से सभी के दिलों को जीत लेने वाले इरफ़ान ने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। फिल्म 'हासिल' में निगेटिव रोल में नजर आए इरफान खान (Irrfan Khan) को उस साल का 'बेस्ट विलेन' का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला।
फिल्म 'पान सिंह तोमर' के लिए नेशनल अवॉर्ड
इरफान ने एक से बढ़ कर एक फिल्में कीं। इनमें 'लंचबॉक्स', 'गुंडे', 'हैदर', 'पीकू' और 'हिंदी मीडियम' जैसी बेहतरीन फिल्मों के नाम भी शामिल हैं।
इरफान को फिल्म 'पान सिंह तोमर' के लिए नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। साल 2011 में भारत सरकार की तरफ से उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया था।  
बीते साल दुनिया को कह गए अलविदा
साल 2018 इरफान के लिए मुश्किलों भरा रहा। इरफान (Irrfan) को न्यूरो एंडोक्राइन नाम की बीमारी हो गई। इसके बाद वो इलाज के लिए लंदन गए। लंबे समय तक उनका इलाज चला और करीब एक साल बाद वो भारत लौटे।  इलाज के बाद वे ठीक थे।
फिल्म 'हिंदी मीडियम 2' की शूटिंग
उन्होंने फिल्म 'हिंदी मीडियम 2' की शूटिंग शुरू की। इस दौरान उनकी तबीयत थोड़ी बिगड़ी, लेकिन उन्होंने फिल्म पूरी की। फिल्म के प्रमोशन का वो हिस्सा नहीं बन सके। फिल्म रिलीज होने के कुछ दिनों बाद ही 29 अप्रैल 2020 को एक्टर का निधन हो गया।
'द सॉन्ग ऑफ स्कॉर्पियंस' होगी रिलीज़
लम्बे समय से ठंडे बस्ते में पड़ी इरफान की फिल्म 'द सॉन्ग ऑफ स्कॉर्पियंस' इस साल सिनेमाघरों के खुलने के बाद रिलीज की जाएगी। तीन साल पहले इस फिल्म का प्रीमियर स्विट्जरलैंड के लोकार्नो फिल्म फेस्टिवल में किया गया था और अब इसे रिलीज करने का फैसला लिया गया है।
'सॉन्ग ऑफ स्कॉर्पियंस' मे नज़र आएंगे इरफ़ान
इरफ़ान की आखिरी फिल्म के नाम पर जल्द ही 'द सॉन्ग ऑफ स्कॉर्पियंस' रिलीज की जाएगी। हालाँकि ये फिल्म तीन साल पहले से बनकर तैयार है।  हाल ही में इस फिल्म के मोशन पोस्टर को रिलीज भी किया गया है। फिल्म 'द सॉन्ग ऑफ स्कॉर्पियंस' में इरफान खान के अलावा गोलशिफतेह फराहनी, वहीदा रहमान, शशांक अरोरा, तिलोत्तमा शोम मुख्य निभाते हुए नज़र आएंगे।
इरफान खान फिल्म 'द सॉन्ग ऑफ स्कॉर्पियंस' मे मुख्य किरदार में नज़र आएंगे। फिल्म की कहानी एक आदिवासी महिला नूरन के ऊपर है, जो बिच्छू का जहर उतारने का काम करती है। इरफान खान का किरदार फिल्म में नूरन की आवाज सुनकर उस पर फिदा होता है और दोनों शादी कर लेते हैं।

*Ad : श्री गांधी स्मारक इण्टर कालेज समोधपुर के पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. रणजीत सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
Ad

*Ad : लोकदल के राष्ट्रीय सचिव घनश्याम दुबे की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
Ad

*Ad : समाजवादी पार्टी जौनपुर के जिलाध्यक्ष लाल बहादुर यादव की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
Ad



from NayaSabera.com

Comments