प्रयाग में एम्स की वैश्विक जरुरत! | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
वसुधैव कुटुंबकम् का सही मायने में यदि हमको पर्याय समझना है तो संगम तट पर अमावस्या का मेला का रेला देखने मात्र से वसुधैव कुटुंबकम् का पर्याय समझ में आ जाता है जहाँ पर समूचे विश्व से श्रद्धालु बिना किसी भेदभाव के एक साथ,एक जगह श्रद्धा की डुबकी लगाने के लिए महीनों तक  कल्पवास करते हैं,भजन-कीर्तन करते हैं और उस समय क्या सरहद,क्या जाति-पात,क्या भाषा,सारे बंधन दरकिनार हो जाते हैं तथा उस समय प्रयागराज का संगम तट अपने आप में स्वयं एक विश्व का प्रतिनिधित्व करता नजर आता है जिसकी गोंद में जान की परवाह किए बगैर जान हथेली पर रखकर श्रद्धा से श्रद्धालु उस संगम के पावन जल में डुबकी मारते नहीं अघाते! इसी वजह से वे बार-बार डुबकी लगाकर सब कुछ पा जाना चाहते हैं। संगम का वो नजारा,वो मंजर देखते ही बनता है। ऐसा नजारा विश्व के किसी अन्य कोने में कहीं नहीं दिखता।
अगर हम मीडिया की माने तो पिछले महाकुंभ में दुनिया के कोने-कोने से करीब तेरह करोड़ श्रद्धालु संगम में आस्था की डुबकी लगाए थे। इन दूर-दराज देशों से आए श्रद्धालु विभिन्न जलवायु,वातावरण से होने के कारण कभी-कभी डुबकी लगाने के साथ-साथ उनको अपने स्वास्थ को इस कड़ाके की सर्दी में स्वस्थ रखना भी एक मुश्किल भरा काम होता है क्योंकि जिस समय संगम में विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक मेला कुंभ का आयोजन होता है उस समय प्रयागराज में कड़ाके की सर्दी पड़ती है जिसमें ब्लड का थक्का जमने की प्रबल संभावना बढ़ जाती है जिससे ब्रेन हैमरेज,हार्ट अटैक जैसी गंभीर जानलेवा बीमारी के गिरफ्त में आने की भी प्रबल संभावना बढ़ जाती है इसके बावजूद भी हमारी सरकारें आज तक इस विषय पर कभी गंभीर निर्णय लेने की रुचि नहीं दिखाई जो कि दुर्भाग्य पूर्ण है।
यहाँ समझने वाली बात यह है कि कभी-कभी जब कोई श्रद्धालु ऐसी परिस्थितियों का शिकार होकर गंभीर रोग के चपेट में आ ही जाता है,तो उसे समुचित उपचार पाने के लिए कई घंटों का सफर  दिल्ली या लखनऊ के लिए करना पड़ता है। कभी-कभी त्वरित उपचार के अभाव में वह श्रद्धालु अपनी जान से भी हाथ धो बैठता है जो कि बहुत ही चिंता का विषय है। आज जरूरत है केंद्र सरकार इस ऐतिहासिक विषय पर त्वरित निर्णय ले
 जिससे विश्व के इस सबसे बड़े धार्मिक मेले में बिना किसी परवाह के श्रद्धालुओं की संख्या में अप्रत्याशित इजाफा हो सके।
गौरतलब है कि इस संगम तट पर आयोजित होने वाले विश्व के इस सबसे बड़े धार्मिक मेले में पधारने वाले विश्व के कोने-कोने से श्रद्धालुओं के लिए  उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाओं को मुहैया कराने के लिए युद्ध स्तर पर लगभग सन 2007 से अनवरत अभियान चलाने वाले प्रखर समाजसेवी रामचंद्र यादव एडवोकेट रात-दिन मेहनत कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश जनपद प्रयागराज के ग्राम जगदीशपुर निवासी रामचंद्र यादव एडवोकेट ने प्रयागराज में कल्पवासी श्रद्धालुओं के लिए उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाओं को मुहैया कराने के लिए लगभग एक दशक से भी अधिक समय से भागीरथी प्रयास जारी रखा है जो करीब एक वर्ष से प्रतिदिन माननीय प्रधानमंत्री महोदय जी को ट्वीट करते रहते हैं। यहाँ बताना यह मुनासिब होगा कि रामचंद्र,प्रवासी भारतीय कल्पवासी श्रद्धालुओं व अन्य कल्पवासी श्रद्धालुओं के लिए प्रयागराज में एम्स की स्थापना के लिए महामहिम राष्ट्रपति जी से लेकर प्रधानमंत्री,मंत्री,सांसद,
विधायक तक का दरवाजा खटखटाए हैं जो आज भी जारी है। प्रतिदिन सोशल मीडिया पर माननीय प्रधानमंत्री जी से सुप्रभात के साथ प्रयागराज में एम्स स्थापना की गुहार लगाना वो नहीं भूलते।
प्रयागराज में कई विभागों के प्रमुख कार्यालय स्थित होने के साथ-साथ एशिया का सबसे बड़ा उच्च न्यायालय इलाहाबाद भी प्रयागराज में ही स्थित है जिससे प्रयागराज में माननीय न्यायधीशों, विद्वानों,अधिवक्ताओं व प्रदेशभर के अधिकारियों,
कर्मचारियों,वादकारियों का हमेशा जमावड़ा भी बना रहता है। अगर एम्स यहाँ बनता है,तो प्रयागराज सड़क मार्ग से बिहार,मध्यप्रदेश के कई जनपदों से जुड़े होने के साथ-साथ वो रेल,वायु तथा जल मार्ग से भी जुड़ा है जिससे अन्य प्रदेशों से भी गंभीर रोग से पीड़ित रोगियों को भी प्रयागराज पहुँचने में किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा और उन्हें समुचित उपचार देकर इस खूबसूरत दुनिया का आनंद लेने के लिए पुनः बचाया जा सकता है,कितनी अद्भुत और सुन्दर बात होगी।  
बड़े ही दुःख के साथ मुझे यहाँ ये उल्लेख करना पड़ रहा है कि प्रयागराज से मां गंगा के आंचल के तीन-तीन सांसद व बारह विधायक क्रमशः देश व प्रदेश की सबसे बड़ी पंचायत में प्रतिनिधित्व करते हैं फिर भी प्रयागराज उच्च स्तरीय स्वास्थ्य सुविधाओं से वंचित क्यों ? यह बहुत ही शर्मनाक बात है जिस पर माननीय प्रधानमंत्री जी को गंभीरता से अमल करना चाहिए। हिंदुस्तान के उन प्रदेशों के माननीय मुख्यमंत्रियों को भी प्रयागराज में एम्स स्थापना मांग की पहल करनी चाहिए जिनके प्रदेशों से भोली-भाली श्रद्धालु जनता कई महीनों के लिए कल्पवास करने हेतु संगम तट पर जाती है जिनके स्वास्थ का पुख्ता इंतजाम होना चाहिए जिससे आवश्यकता पड़ने पर अतिशीघ्र त्वरित समुचित उपचार उपलब्ध हो सके।  
एम्स की मांग इसलिए की भी जा रही है कि यहाँ दुनिया के श्रद्धालु जमा होते हैं। यह बात हमारे  देश की मर्यादा से भी जुड़ी है। हमारा देश एक भारीभरकम आबादी वाला देश है। कोरोना काल में हॉस्पिटल की जो भारी कमी महसूस की गई, किसी से छिपी है? दवाओं से लेकर,डॉक्टर तक,
नर्स से लेकर ऑक्सीजन तक, श्मशान से लेकर कंधे तक,कहाँ-कहाँ देश की आम जनता खून का आँसू नहीं रोई? आबादी के चश्में से भी यदि हम देखें,तो चीन,अमेरिका के बाद अपना ही देश आता है और इस देश में चौबीस करोड़ आबादीवाला प्रदेश अर्थात उत्तरप्रदेश अपने आप में एक बड़ी समस्या के रूप में जाना जाता है। कई बार अपने सम्बोधन में प्रधानमंत्री जी ये बोल चुके हैं कि उत्तरप्रदेश सबसे ज्यादा प्रधामंत्री देनेवाला प्रदेश है मगर उसे लाभ क्या मिला? न तो आईटी हब और नहीं ही उद्योगों का जाल? आम पढ़े-लिखे डिग्री धारी और दिहाड़ी मजदूर रोजी-रोटी के लिए कहीं और ही अपना रुख करते हैं जहाँ अपना खून-पसीना बहाकर तथा अपना अमूल्य मत देकर ठगे-से रह जाते हैं।
कौन अपने माता-पिता और परिवार को छोड़कर दूसरे जगह जाना पसंद करेगा। यदि पूर्व सरकारें भी मिल,फैक्ट्री,आईटी हब,मेडिकल आदि क्षेत्रों में हाथ-पांव मारी होती,तो आज उत्तरप्रदेश सबसे आकर्षक और मजबूत प्रदेश होता। आज प्रयाग राज की आबादी करीब सत्तर लाख के आसपास होगी और स्वास्थ्य के नाम पर स्वरूपरानी हॉस्पिटल के अलावा कुछ प्राइवेट हॉस्पिट ही हैं जो आम जनता के लिए नाकाफी साबित हो रहे हैं।
एम्स हॉस्पिटल अपनी बेहतरी के लिए जाना जाता है। उसके सारे स्टॉफ हमेशा सक्रिय रहते हैं। मेडिकल सुविधाएँ बेहद अच्छी होती हैं। एक से बढ़कर एक डॉक्टर उसमें काम करते हैं।
आधुनिक साज-सज्जा से वह लैस रहता है।
अगर हम थोड़ी-सी पीछे नजर डालें,तो 
       गंगा,यमुना,सरस्वती के त्रिवेणी संगम पर बसा वह प्रयागराज पंद्रहवीं शताब्दी में इलाहाबाद के नाम से जाना जाने लगा और एक लंबे काल खण्ड के बाद फिर 2018 में उत्तरप्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री आदरणीय योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद का नाम बदलकर फिर से प्रयागराज कर दिया। इसके पीछे की सच्चाई यह है कि माना जाता है कि सृष्टिकर्ता ब्रह्मा ने सृष्टि कार्य पूर्ण होने के पश्चात् प्रथम यज्ञ किया। इसी प्रथम यज्ञ के ´प्र ´
और याग अर्थात यज्ञ से मिलकर प्रयाग बना और उस स्थान का नाम प्रयाग रखा गया। वह पवित्र शहर अपनी स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर बेहद चिंतित है,उसके चेहरे पर अब मुस्कान लाने की जरुरत है। भारत सरकार व नीति निर्माताओं को अब ये समझ लेना चाहिए कि वहाँ अविलम्ब एक एम्स की स्थापना हो। प्रयागराज के अलावा दुनिया के कोने से आए पर्यटकों,श्रद्धालुओं तथा अन्य सभी जरूरतमंदों का भला हो। अच्छे कामों के लिए ये सरकार सभी के दिलों में जगह बना चुकी है, इसीलिए इससे उम्मीद बढ़ गई है।
 मेरे ख्याल से संयुक्त राष्ट्र संघ के स्वास्थ्य संगठन को भी इस दिशा में पहल करते हुए प्रयागराज में एम्स की स्थापना के लिए आगे आना चाहिए और मदद के तौर पर मानवीय कदम उठाना चाहिए
 जिससे विश्व पटल से पधारे कल्पवासी श्रद्धालुओं को स्वास्थ से संबंधित किसी भी प्रकार की दिक्कतों का सामना न करना पड़े और वह संगम  अपने अमृत जल से सभी को मुक्ति व मोक्ष प्रदान करता रहे।

लेखक : रामकेश एम. यादव(कवि, साहित्यकार, पत्रकार, पूर्व बृहन्नमुम्बई महानगरपालिका शिक्षक ),मुंबई -400072

*Ad : जौनपुर टाईल्स एण्ड सेनेट्री | लाइन बाजार थाने के बगल में जौनपुर | सम्पर्क करें - प्रो. अनुज विक्रम सिंह, मो. 9670770770*
Ad

*समस्त जनपदवासियों को शारदीय नवरात्रि, दशहरा, धनतेरस, दीपावली एवं छठ पूजा की हार्दिक शुभकानाएं: एस.आर.एस. हॉस्पिटल एवं ट्रामा सेन्टर स्पोर्ट्स सर्जरी डॉ. अभय प्रताप सिंह (हड्डी रोग विशेषज्ञ) आर्थोस्कोपिक एण्ड ज्वाइंट रिप्लेसमेंट ऑर्थोपेडिक सर्जन # फ्रैक्चर (नये एवं पुराने) # ज्वाइंट रिप्लेसमेंट सर्जरी # घुटने के लिगामेंट का बिना चीरा लगाए दूरबीन # पद्धति से आपरेशन # ऑर्थोस्कोपिक सर्जरी # पैथोलोजी लैब # आई.सी.यू.यूनिट मछलीशहर पड़ाव, ईदगाह के सामने, जौनपुर (उ.प्र.) सम्पर्क- 7355358194, Email : srshospital123@gmail.com*
Ad


*हीरो की कोई भी मोटरसाइकिल व स्कूटर खरीदिये और पाइये एक निश्चित उपहार | आटो व्हील्स हीरो जहांगीराबाद | #NayaSaberaNetwork* https://www.nayasabera.com/2021/10/nayasaberanetwork_600.html --- *धनतेरस एवं दिवाली धमाका ऑफर घर ले आइए हीरो और अपनों की खुशियों को दीजिए रफ्तार | हीरो की कोई भी मोटरसाइकिल व स्कूटर खरीदिये और पाइये एक निश्चित उपहार | आटो व्हील्स हीरो जहांगीराबाद, जौनपुर, मो. 7290084876 अहमद, खां मण्डी, पॉलिटेक्निक चौराहा, जौनपुर, मो. 9076609344 | वेंकटेश्वर आटो मोबाइल विशेषरपुर, पचहटियाँ, जौनपुर मो. 7290046734*
Ad


from Naya Sabera | नया सबेरा - No.1 Hindi News Portal Of Jaunpur (U.P.) https://ift.tt/3kc68W1


from NayaSabera.com

Comments