ऐतिहासिक चूड़ी मेले से सीता मां ने की थी श्रृंगार की खरीदारी | #NayaSaberaNetwork

ऐतिहासिक चूड़ी मेले से सीता मां ने की थी श्रृंगार की खरीदारी | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
करवा चौथ से शुरू होकर चलता है धनतेरस तक
दूर-दूर से महिलाएं आती हैं श्रृंगार के सामान खरीदने
अजय सिंह
शाहगंज,जौनपुर। ऐतिहासिक सीता श्रृंगार मेला जो अब चूड़ी का मेला के नाम से सुप्रसिद्ध है। मेला अपनी आन बान शान के साथ शुरू हुआ। यह ऐतिहासिक मेला करवा चौथ के दिन प्रारम्भ होकर धनतेरस की पूर्व रात्रि को समाप्त होता है। सप्ताह भर चलने वाला मेला अपने तरह का अनोखा मेला है। इस मेले में गैर जनपद से आये चूड़ी, सौंदर्य प्रसाधन, सैंडल, खिलौने, क्रॉकरी, आर्टिफिशल ज्वेलरी के दुकानदार अपना स्टाल लगा सैकड़ों वर्षों से मेले की शोभा बढ़ा रहे हैं। शाम ढलते ही क्षेत्र के आसपास की महिलाओं का सैलाब ऐतिहासिक चूड़ी मेले में उमड़ पड़ता है। मान्यता है कि मर्यादा पुरु षोत्तम श्रीराम लंका विजय के बाद पावन नगरी अयोध्या लौटे थे। यहां लौटते समय माता सीता जी ने संयासी चोले को त्यागने के बाद अपने श्रृंगार के साजोसामान की खरीदारी श्रृंगार हाट से की थी। इसी तर्ज पर श्रृंगार मेले का आयोजन 100 साल से अधिक से किया जा रहा है। इस ऐतिहासिक मेले की अनूठी रौनक यह है कि दशहरे से लेकर दीपावली तक आस पास के क्षेत्र के लोगों के लिए रोज त्योहार जैसा होता है। हिन्दू- मुस्लिम सभी समुदाय की महिलाएं भी बढ़ चढ़कर खूब खरीदारी करती हैं। दूरदराज ब्याही नगर की बेटियों को इस मेले के लगने का बेसब्राी से इंतजार रहता है। मेले में वाराणसी से आये वर्तमान समय के सबसे पुराने चूड़ी व्यवसायी मो. असलम के मुताबिक वह लगभग तीन दशक से अनवरत मेले में दुकान लगाते हैं। हर वर्ष इस ऐतिहासिक सीता श्रृंगार मेला (चूड़ी मेला) का बेसब्राी से इंतजार रहता है। इस मेले में गंगा जमुनी संस्कृति की एक अनोखी मिसाल देखने को मिलती है कि गैर जनपदों से आये लगभग सभी व्यवसायी मुस्लिम समुदाय के हैं। मुस्लिम समुदाय की महिलाएं भी मेले की रौनक बढ़ा रही हैं। इस बार चूड़ी मेले में राधा किशन चूड़ा, राजा रानी कंगन की धूम मचेग। वाराणसी, अम्बेडकर नगर, जौनपुर, आजमगढ़, सुल्तानपुर से आए व्यापारी चूड़ी, सौंदर्य प्रसाधन, सैंडल, खिलौने, क्रॉकरी, आर्टिफिशल ज्वेलरी से दुकान सजाए हैं। वाराणसी के व्यवसायी सादिक उर्फ गुड्डू, हाजी मो. असलम, रिजवान, इरफान, आममगढ के तारिक सुल्तानपुर के जावेद समेत दर्जनों व्यवसायी ऐतिहासिक चूड़ी मेले की शोभा बढ़ा रहे हैं। मेले में नगर पालिका परिषद, रामलीला समिति, पुलिस प्रशासन के अलावा मोहल्ले के लोगों का बाहर से आए दुकानदारों और खरीदारी करने पहुंची बहन बेटियों को काफी सहयोग रहता है। इस ऐतिहासिक मेले में पुरूषों के प्रवेश पर प्रतिबंध रहता है।

*नवरात्रि के पावन समय घर ले आये समृद्धि गहना कोठी के विशेष ऑफऱ के साथ | #NayaSaberaNetwork* https://www.nayasabera.com/2021/10/nayasaberanetwork_330.html --- *नवरात्रि के पावन समय घर ले आये समृद्धि गहना कोठी के विशेष ऑफऱ के साथ*✨🎊🎁 *ऑफऱ डिटेल्स :* 🔶 *जितना ग्राम सोना उतना ग्राम चांदी मुफ्त* 🔶 *प्रत्येक 5000 तक कि खरीद पर पाए लकी ड्रॉ कूपन मुफ्त* 🔶*प्रथम पुरस्कार मारुति सुजुकी अर्टिगा।* 🔶 *द्वितीय पुरस्कार स्विफ्ट कार।* 🔶 *बाइक एवं स्कूटी के साथ अन्य आकर्षक उपहार।* *Address : हनुमान मंदिर के सामने कोतवाली चौराहा, जौनपुर।* 📞*998499100, 9792991000, 9984361313* *सद्भावना पुल रोड़, नखास, ओलन्दगंज, जौनपुर* 📞*9938545608, 7355037762, 8317077790*
Ad


*वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के समन्वयक डॉ. राकेश कुमार यादव की तरफ से आप सभी को नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं | #NayaSaberaNetwork*
Ad


*Ad : जौनपुर का नं. 1 शोरूम : Agafya furnitures | Exclusive Indian Furniture Showroom | ◆ Home Furniture ◆ Office Furniture ◆ School Furniture | Mo. 9198232453, 9628858786 | अकबर पैलेस के सामने, बदलापुर पड़ाव, जौनपुर - 222002*
Ad



from Naya Sabera | नया सबेरा - No.1 Hindi News Portal Of Jaunpur (U.P.) https://ift.tt/30X6ybL


from NayaSabera.com

Comments