पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह ने की तालिबान से बेहतर संबंधों की वकालत, बोले- पहले ही अच्छे रखने थे रिश्ते | #NayaSaberaNetwork

पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह ने की तालिबान से बेहतर संबंधों की वकालत, बोले- पहले ही अच्छे रखने थे रिश्ते | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
नई दिल्ली। अफगानिस्तान के मौजूदा हालात को लेकर पूर्व विदेश मंत्री के नटवर सिंह ने बुधवार को कहा कि भारत को पहले ही तालिबान के साथ सार्वजनिक रूप से संवाद करना चाहिए था। उन्होंने आगे कहा कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद भारत को 'देखो और प्रतीक्षा करो' का दृष्टिकोण अपनाना चाहिए, यदि वे जिम्मेदार सरकार के रूप में काम करते हैं तो राजनयिक संबंध स्थापित करने पर विचार करना चाहिए।
सिंह, जो यूपीए-1 में विदेश मंत्री थे और अन्य वरिष्ठ राजनयिक पदों पर रहने के अलावा पाकिस्तान में भारत के राजदूत के रूप में भी काम कर चुके हैं। उन्होंने तालिबान को पहले से बेहतर बताया। पीटीआई को दिए इंटरव्यू में नटवर ने कहा कि भारत राष्ट्रपति अशरफ गनी के काफी करीब था जो कि भाग गए लेकिन अब स्थिति काफी बदल गई है। उन्होंने कहा कि स्थिति प्रतिकूल नहीं है, यहां तक कि दोस्ती की एक झलक भी गायब हो गई है इसलिए भारत सरकार बहुत सावधान है।
बातचीत के लिए अमेरिकियों का दिया हवाला
सिंह ने कहा कि अमेरिकियों को बहुत अधिक दोष लेना पड़ता है क्योंकि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने अपने सैनिकों को वापस बुलाकर तालिबान के लिए कदम बढ़ाना आसान बना दिया। उनकी यह टिप्पणी तालिबान विद्रोहियों की ओर से काबुल में अमेरिकी समर्थित अफगान सरकार के पतन के बाद और राष्ट्रपति गनी के रविवार को देश से भाग जाने के बाद आई है। यह पूछे जाने पर कि क्या भारत को तालिबान के साथ पहले संबंध बनाना चाहिए था, सिंह ने सकारात्मक जवाब दिया और समूह के साथ बातचीत करने के अमेरिकियों के उदाहरण का हवाला दिया।
खुफिया एजेंसी को चुपचाप संपर्क करने के लिए कहता
मई 2004 से दिसंबर 2005 तक विदेश मंत्री रहे नटवर सिंह ने कहा कि अगर मैं विदेश मंत्री होता, तो मेरा उनसे संपर्क होता। मैं अपने रास्ते से हट जाता और अपनी खुफिया एजेंसी को चुपचाप संपर्क करने के लिए कहता। बता दें कि विदेश मंत्री की जिम्मेदारी संभालने के बाद नटवर सिंह ने कुछ साल बाद कांग्रेस को छोड़ दी। क्यूबा के साथ अमेरिकियों के संपर्क का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि भारत को तालिबान के साथ जुड़ना चाहिए क्योंकि हम पाकिस्तान और चीन के लिए मैदान को खुला नहीं छोड़ सकते हैं। पूर्व मंत्री ने कहा कि कम से कम विदेश सचिव स्तर पर, भारत को तालिबान के साथ सार्वजनिक रूप से संपर्क रखना चाहिए था।
इस्लामाबाद उनके लिए शर्तें तय कर सकता है
सिंह ने कहा कि तालिबान, वर्तमान में नहीं बल्कि पहले शासन करने वाले तालिबानियों ने खुले तौर पर कहा था कि वे हिंदू विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि वे अभी भी पाकिस्तान के काफी करीब हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इस्लामाबाद उनके लिए शर्तें तय कर सकता है। पाकिस्तान ने उन्हें वित्तपोषित किया, फिर अमेरिकियों ने उन्हें सशस्त्र किया। यह बहुत जटिल स्थिति है लेकिन इस समय हम खिलाड़ी नहीं हैं। सिंह ने कहा कि भारत ने पिछले 10-12 वर्षों में अफगानिस्तान पर सड़कों, अस्पतालों, स्कूलों और उनके पास जो भी छोटे उद्योग हैं, उनके निर्माण पर 3 अरब डॉलर खर्च किए हैं।

*समाजवादी अल्पसंख्यक सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष मो. आजम खान एडवोकेट की तरफ से स्वतंत्रता दिवस एवं रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad

*जिला पंचायत सदस्य जौनपुर एवं जलालपुर के व्यापार मंडल अध्यक्ष पवन गुप्ता की तरफ से देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस एवं रक्षाबंधन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं*
Ad


*आनन्द मार्ग जूनियर हाईस्कूल माधोपट्टी जौनपुर के डायरेक्टर बृजेश कुमार सिंह की तरफ से देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस एवं रक्षाबंधन की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं*
Ad



from Naya Sabera | नया सबेरा - No.1 Hindi News Portal Of Jaunpur (U.P.) https://ift.tt/2XxfyTf


from NayaSabera.com

Comments