दादा जी दरख्‍़त हैं - | #NayaSaberaNetwork

दादा जी दरख्‍़त हैं - | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क

दादा जी दरख़्त हैं 
इस घर के

दरख़्त घर के आँगन में 
जमा है बरसों से 
बहुत गहरे तक फैली है 
दरख़्त की जड़ें
यहाँ तक कि दीवारों में भी 
धँस गई हैं वे
और दिलचस्प है कि 
इन दीवारों को दे रही है सहारा 
जिसके चलते 'अब गिरी कि अब' 
दिखने वाली दीवारें 'जस की तस' हैं
एक मुद्दत से

दरख़्त मुखिया है घर का
मूलनिवासी क्षेत्र-नगर का
लोग इसी के नाम से 
जानते हैं हमें,
बतलाते हैं वे
इस दरख़्त की कहानी 
कि उनके देखते-देखते 
कई बार सूख कर हरा हुआ है यह

दरख्‍़त कच्चे सूत से सूता गया 
तीज त्यौहार पर 
सुहागिनों ने की परिक्रमा 
पूजा अर्चना की और 
अपने हाथों असीसा दरख्‍़त ने

दरख़्त अपने जख्‍़म 
छुपाता रहा गाहे-बगाहे 
पोंछता रहा अपने पत्तों से नम आँखें
जब क्रोध में आया तो सहस्त्रबाहु की तरह 
फैला दी अपनी भुजाएं दसों-दिशाओं में 
खड़ा रहा आँधियों में अडिग

दरख़्त की शाखाओं पर 
पड़ोसी घर को गुमान है अपनेपन का
जब बजते हैं दरख़्त के पत्ते
छिड़ता है संगीत 
और नाच उठता है पूरा मोहल्ला

दरख्त की यूं तो बहुत-सी कहानियां हैं 
जिसे समय कहता रहा है
फिलवक्त इतना कहना है
कि अपने ही बीज से 
अंकुरित पौध को देख 
हर्षित हो रहा है दरख़्त

दादा जी दरख़्त हैं 
इस घर के 
घर हर्षित होता है उनसे।

(शुचि मिश्रा)

*Ad : Pizza Paradise - Wazidpur Tiraha Jaunpur - Mo. 9519149797, 9670609796*
Ad



*Ad : हड्डी एवं जोड़ रोग विशषेज्ञ डॉ. अवनीश कुमार सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad

*Ad : बीआरपी इण्टर कालेज जौनपुर के प्रबंधक हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष प्रबंध समिति दिलीप श्रीवास्तव एवं प्रधानाचार्य डॉ. सुभाष सिंह की तरफ से देशवासियों को गणतंत्र दिवस एवं बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad


from NayaSabera.com

Comments