किराएदार मकान मालिक के संबंध में कोई बात निर्धारित या सुझाव नहीं दे सकते - दुकानें खाली करने के आदेश - सुप्रीम कोर्ट का एतहसिक फ़ैसला | #NayaSaberaNetwork

किराएदार मकान मालिक के संबंध में कोई बात निर्धारित या सुझाव नहीं दे सकते - दुकानें खाली करने के आदेश - सुप्रीम कोर्ट का एतहसिक फ़ैसला | #NayaSaberaNetwork


नया सबेरा नेटवर्क
किरायेदारों और मकान मालिकों को आपसी सदभाव और आपसी तकलीफें समझना जरूरी - एड किशन भावनानी
गोंदिया - भारतवर्ष में आज भी बहुत बड़ी तादाद में लोग हैं जो निवास, व्यवसाय, या व्यापार के लिए किराए के निवास स्थान,दुकान, ऑफिस, में रहते हैं और ऐसे भी कई मामले प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से हम पढ़ते वह देखते हैं,जिसमें मकान मालिकों और किरायेदारों के बीच बहुत विवाद होते हैं और मामला अदालतों की दहलीज तक पहुंच जाता है और फिर रेंट कंट्रोल बोर्ड से होकर सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच जाते हैं। अगर दोनों पक्ष मकान मालिक और किराएदार एक दूसरे की तकलीफों समस्याओं और परिस्थिति जन्य स्थितियों को गहराई के साथ समझे, और मधुरता से उस समस्या को पर ध्यान दें और आपस में सुलझाएंगे तो स्थिति थानों और अदालतों तक जाने की नहीं पहुंचेगी।.... इसी विषय पर एक मामला बुधवार दिनांक 27 जनवरी 2021 को माननीय सुप्रीम कोर्ट में तीन जजों की बेंच जिसमें माननीय न्यायमूर्ति संजय किशन कौल,माननीय न्यायमूर्ति दिनेश माहेश्वरी तथा माननीय न्यायमूर्ति ऋषिकेश राय की बेंच के सम्मुख आया सिविल अपील क्रमांक 231-232/2021 जो एसएलपी (सिविल) क्रमांक 10793-10794/ 2020 से उदय हुई थी याचिकाकर्ता बनाम सुदर्शन कुमार व अन्य के मामले में माननीय बेंच ने अपने 10 पृष्ठों और 17 प्वाइंटों के आदेश में माननीय उच्च न्यायालय के आदेश को खारिज करते हुए पॉइंट नंबर 15 और 16 में कहा कि रेंट कंट्रोलर के आदेश, कि 3 माह में किराएदार, स्थान खाली करें, व स्वामित्व मकान मालिक को सौंपी। परंतु, चुंकि प्रमैसेस कमर्शियल हैं अतः उन्हें स्थान खाली करने की अवधि 31 दिसंबर 2021 तक देना उचित होगा। जबकि 3 माह में किराएदारों को इसका एफिडेविट देना होगा। आदेश कॉपी के अनुसार बेंच ने आगे कहा एक किरायेदार यह निर्धारित नहीं कर सकता है कि प्रस्तावित व्यावसायिक उद्यम के लिए कितना स्थान पर्याप्त है या यह सुझाव दे सकता है कि मकान मालिक के पास उपलब्ध स्थान पर्याप्त होगा; सुप्रीम कोर्ट ने पूर्वी दिल्ली शहरी किराया प्रतिबंध अधिनियम, 1949 के तहत एक एनआरआई मकान मालिक के पक्ष में पारित एक निष्कासन आदेश को बरकरार रखते हुए उक्त ‌टिप्पणी की है। इस मामले में, मकान मालिक ने अधिनियम की धारा 13 बी, 18 ए के सा‌थ पढे़ं, के प्रावधानों को लागू करके किराए के परिसर पर कब्जे की तत्काल वसूली की मांग के लिए रेंट कंट्रोलर का दरवाजा खटखटाया था।मकान मालिक ने दावा किया था कि वह फर्नीचर की बिक्री,खरीद और निर्माण का व्यवसाय शुरू करने की इच्छा रखता है और प्रस्तावित व्यवसाय के लिए, मकान मालिक के पास पहले से मौजूद संपत्ति अपर्याप्त है।रेंट कंट्रोलर ने याचिका को अनुमति दी थी। किरायेदारों द्वारा दायर संशोधन याचिका को अनुमति देते हुए, पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने निष्काषन आदेश को रद्द किया और रेंट कंट्रोलर को किरायेदारों को लड़ने की अनुमति देने के साथ मामला तय करने का निर्देश दिया था। सुप्रीम कोर्ट के समक्ष अपील में, किरायेदारों ने मकान मालिक की एनआरआई स्थिति को चुनौती नहीं दी थी, लेकिन उन्होंने कहा कि मकान मालिक के पास उपलब्ध स्थान प्रस्तावित फर्नीचर व्यवसाय के लिए पर्याप्त होगा और उत्तरदाताओं को उनकी संबंधित दुकानों से बेदखल करने की आवश्यकता नहीं है।इस संदर्भ मे, बेंच ने कहा,उपरोक्त पहलू पर, किरायेदार यह निर्धारित नहीं करेगा कि प्रस्तावित व्यावसायिक उद्यम के लिए कितना स्थान पर्याप्त है या यह सुझाव देगा कि मकान मालिक के पास उपलब्ध स्थान पर्याप्त होगा।निष्काषन की कार्यवाही के रूप में, मकान मालिकों के कब्जे में मौजूद खाली दुकानों का विधिवत खुलासा किया गया है, लेकिन मकान मालिक का मामला यह है कि प्रस्तावित फर्नीचर व्यवसाय के लिए उनके कब्जे के तहत परिसर / स्थान अपर्याप्त है। उम्र के पहलू पर, यह देखा गया है कि उत्तरदाता वरिष्ठ नागरिक हैं, लेकिन इसने व्यवसाय को किराए के परिसर में जारी रखने की उनकी इच्छा को प्रभावित नहीं किया है। इसलिए, उनके प्रस्तावित व्यवसाय में मकानमालिक के खिलाफ उम्र के पहलू पर विचार नहीं किया जा सकता है। इस मामले में, किराया नियंत्रक ने किरायेदारों के लड़ने के अधिकार से इनकार कर दिया था, इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि मकान मालिक भारत लौट आया है और उसे अपनी जरूरत के लिए परिसर की आवश्यकता है। कब्जे की वसूली के लिए धारा 13 बी के तहत सारांश कार्यवाही को बरकरार रखते हुए, पीठ ने कहा, एनआरआई मकान मालिक के लिए विशेष प्रक्रिया विधानमंडल ने जानबूझकर तैयार की है, ताकि एनआरआई मकान मालिकों की वास्तव‌िक जरूरत के लिए किराए के परिसर के कब्जे को तेजी से सुरक्षित किया जा सके, और ऐसे विधायी इरादे को सारांश निष्कासन के अधिकार को प्रदान करने के लिए थे, बिना किसी ठोस कारण के, एक समय के उपाय के रूप में निराश नहीं किया जा सकता है। किरायेदारों द्वारा धारा 13 बी आवेदनों का विरोध करने के लिए उठाए गए असंतोष के संबंध में, हमें लगता है कि किरायेदार सारांश कार्यवाही से लड़ने के अधिकार को सुरक्षित करने के लिए पर्याप्त कारण प्रदान करने में विफल रहे हैं और उन्हें धारा 13 बी के तहत सीमित रक्षा के दायरे को चौड़ा करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। अपनी वास्तव‌िक आवश्यकता को पूरा करने के लिए, मकानमालिक ने धारा 13 बी की सारांश प्रक्रिया के तहत केवल एक अवसर का लाभ उठाया है और उनकी व्यावसायिक आवश्यकता का किरायेदारों द्वारा गंभीरता से मुकाबला नहीं किया गया है। इसके अलावा, विशेष प्रावधानों के दुरुपयोग को रोकने के लिए आवश्यक सुरक्षा उपाय भी संतुष्ट पाए गए हैं और यही कारण है कि किरायदारों को लड़ने की अनुमति देने से इनकार कर दिया गया था।
संकलनकर्ता कर विशेषज्ञ एड किशन भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

*Ad : Pizza Paradise - Wazidpur Tiraha Jaunpur - Mo. 9519149797, 9670609796*
Ad


*Ad : हड्डी एवं जोड़ रोग विशषेज्ञ डॉ. अवनीश कुमार सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं*
Ad



*Ad : अपना दल व्यापार मण्डल प्रकोष्ठ के मंडल प्रभारी अनुज विक्रम सिंह की तरफ से नव वर्ष 2021, मकर संक्रान्ति एवं गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई*
Ad



from NayaSabera.com

Comments